Tuesday , October 17 2017
Home / Ghazal

Ghazal

ghazal

Aankh sooraj pe phaad kar dekho karantikari ghazal

karantikari ghazal

आँख सूरज पे फाड़ कर देखो हेकड़ी उसकी झाड़ कर देखो ।   दौड़ते हैं जो आपके पीछे उन दुखों को पछाड़ कर देखो ।   जीने देंगी न हसरतें तुमको इनको जिन्दा ही गाड़ कर देखो ।   जिसने जीना हराम कर रक्खा उसका भी सीना फाड़ कर देखो …

Read More »

Nazaara hai jo aankhon mein ghazal lyrics

ghazal lyrics

नज़ारा है जो आँखों में ये हर सू टूट सकता है मेरी साँसों पे है मेरा जो काबू टूट सकता है! मेरे मौला मेरे बच्चों को तू जल्दी बड़ा कर दे ये मिट्टी का बना है मेरा बाज़ू टूट सकता है! मुसलमाँ खुद फसा है ये नज़र बन्दी के दल …

Read More »

Ham donon ke hai beech muhbbat bhari ghazal

हम दोनों के है बीच वो हर बात बाँट लें ये दिन दुपहरी शाम और रात बाँट लें । सब घाव आधे आधे आधे सभी मरहम दुख दर्द टीस सारे जज़्बात बाँट लें । मुस्कान हो खुशी या हँसी की फुलझड़ी रख बीच में बराबर सौगात बाँट लें । इक …

Read More »

Nazar se nazar kee rahee love ghazal in hindi

love ghazal in hindi

नज़र से नज़र की रही राज़दारी चढ़ी इक दफ़ा तो न उतरी खुमारी । न कुछ भी जुबां का है किरदार कोई नज़र से नज़र ने करी बात सारी । नज़र को नज़र की लगी जब नज़र तो नज़र ने नज़र की नज़र है उतारी । नज़र को ज़दों में …

Read More »

dekha nahi kabhi chasma utaarkar desh bhakti ghazal

desh bhakti ghazal

देखा नही कभी भी चश्मा उतारकर उसने सभी को परखा सिक्का उछालकर ।   अजमा रहा है कबसे वो मेरी ताकतें खुदको युँ बार बार ही ख़तरे में डालकर ।   वो मौत के जबड़ों से लाया था ज़िन्दगी हैरत को रख दिया था हैरत में डालकर ।   लोहे …

Read More »

hosho khirad shoor ke aane mein mar gaye Ghazal

Ghazal

होशो ख़िरद शऊर के आने में मर गये कितने तबीब मर्ज़ मिटाने में मर गये !! कुछ लोग थे खड़े की तबाही शुरू करें कुछ लोग थे जो बात बनाने में मर गये !! किसकी मज़ाल थी जो मुकाबिल में हो खड़ा लेकिन हम अपनी जान बचाने में मर गये …

Read More »

harapal tere chehare pe noor rahe hamadam Hindi Ghazal

हरपल तेरे चेहरे पे नूर रहे हमदम कायम तेरी माँग का सिन्दूर रहे हमदम, खुशियां तेरे दामन में हों दुनिया की सब तेरे घर के आँगन से गम दूर रहे हमदम, आकर ख्वाबों में भी मिल न पाये हम तू इतनी भी तो ना मजबूर रहे हमदम, मैं पत्थर हूँ …

Read More »

© Copyright 2016 All Rights Reserved | Designed by Hindi Shayari SMS